13 जनवरी 2012

उमर बढ गई या कम हो गई.......?????



आज मन में यह ख्‍याल आ रहा है कि खुशियां मनाऊं या गम....?  आज जन्‍मदिन है मेरा। उम्र एक साल बढ गई.... या कम हो गई....., क्‍या कहूं, क्‍या समझूं। वैसे जन्‍मदिन को उत्‍साह के रूप में मनाया जाता है। जश्‍न किया जाता है इस दिन...... पर क्‍या दूसरा पहलू यह नहीं कि जितनी उम्र ऊपरवाले ने लिखी है उसमें एक साल कम हो गए.........!  खैर...... जीवन जितना भी है, उसे उत्‍साह के साथ जीना चाहिए, और ये कोशिश मैं हमेशा करता हूं। उम्र कम हुई या बढी इस चिंता को छोड ये तो सोचा ही जा सकता है आज के दिन कि अब तक क्‍या खोया और क्‍या पाया....? काफी कुछ पाया है तो काफी कुछ खोया भी है मैंने अपने अब तक के सफर में। जन्‍मदिन पर आज एक बार फिर आंखे नम हो गई हैं, उसे याद कर जिसने मुझे इस दुनिया में लाया। मेरी मां। मैं दुनिया में उससे सबसे ज्‍यादा प्‍यार करता हूं और सबसे ज्‍यादा नाराज भी हूं उससे। जब मैं चार साल का था, उस वक्‍त वो मुझे छोडकर इस दुनिया से रूखसत हो गई थी और मैं ............  
किसी महापुरूष ने कहा है, हम जब पैदा होते हैं तो हम रोते रहते हैं पर सारी दुनिया हंसती है, हमें अपने जीवनकाल में ऐसे काम करने चाहिए कि जब हम मरें तो हम हंसते रहें पर सारी दुनिया रोए........। आप  सबकी दुआएं चाहिए कि मैं अपने जीवन में ऐसे कर्म कर सकूं........।
जन्‍मदिन के अवसर पर अपनी एक पुरानी कविता प्रस्‍तुत कर रहा हूं....
मेरे जीवन का 
एक वर्ष और
बीत गया....,
धूमिल छवि 
जिसकी
है मेरे पास.....।
थोडी खुशियां, थोडे गम
कहीं जीत, कहीं हार
यही तो है,
जिनके साए  में
कट जाती है
जिंदगी.......।
एक स्‍वच्‍छंद आकाश
और है मेरे पास,
जिसमें लिखना है
मुझे अपना कल,
अपना  आने  वाला कल
उस कल को
खुशगवार बनाएगी
तुम्‍हारी,
सिर्फ तुम्‍हारी
दुआएं ......................।

99 टिप्‍पणियां:

  1. रचना पुरानी हो या नई अच्छी है और आपको जन्म दिन पर हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. जीवन चलने का नाम..
    उम्र बढती भी है घटती भी है ..मायेने अलग अलग हैं ..
    संकोच कैसा ..जीवन में हमी को ये क्षण मिले हैं की आज हम वहां हैं ...जहां कितने नहीं हैं ..
    जन्मदिन की शुभकामनायें..
    kalamdaan.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. रीतू जी सही कहा आपने, जीवन चलने का नाम......

      हटाएं
  3. बात दोनों सही हैं पर इंसान को हमेशा सकारात्मकता का पक्षधर होना चाहिए ! आपने पिछले साल जो बेहतर किया था आने वाले साल में उससे बेहतर करें , बस यही शुभकामनायें हैं

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अली साहब जरूर बेहतर की कोशिश होगी।

      हटाएं
  4. अरे वाह! जन्मदिन के अवसर पर ढेरों शुभकामनाएँ!

    हर एक पीछे छूटने वाले साल पर यह मंथन करना चाहिए की क्या पाया और क्या छूटा... आगे पाने के लिए समय और भी कम रह गया है इसलिए और अधिक लक्ष्य की ओर ध्यान होना चाहिए... और अधिक मेहनत होनी चाहिए...

    और जो पा लिया उसकी ख़ुशी होनी चाहिए... आखिर इस जीवन में उस परम परमेश्वर की कृपा से हम हर पल कुछ ना कुछ पाते ही हैं...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा शाहनवाज जी आपने। अब ज्‍यादा मेहनत के साथ आगे बढना होगा।

      हटाएं
  5. जन्‍मदिन पर शुभकामनाएं और आशीष।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर रचना. तुम जियो हज़ारों साल, साल के दिन हों पचास हज़ार.

    उत्तर देंहटाएं
  7. Nice post.

    हरेक आस्तिक अपने पैदा करने वाले को किसी न किसी नाम से याद करता ही है। जो जिस ज़बान को जानता है, उसी में उसका नाम लेता है। हरेक ज़बान में उसके सैकड़ों-हज़ारों नाम हैं। उसका हरेक नाम सुंदर और रमणीय है।
    http://vedquran.blogspot.com/2012/01/sufi-silsila-e-naqshbandiya.html

    उत्तर देंहटाएं
  8. Nice post.

    हरेक आस्तिक अपने पैदा करने वाले को किसी न किसी नाम से याद करता ही है। जो जिस ज़बान को जानता है, उसी में उसका नाम लेता है। हरेक ज़बान में उसके सैकड़ों-हज़ारों नाम हैं। उसका हरेक नाम सुंदर और रमणीय है।
    http://vedquran.blogspot.com/2012/01/sufi-silsila-e-naqshbandiya.html

    उत्तर देंहटाएं
  9. जन्मदिन की बधाई, उम्र बढने के साथ अनुभव और ज्ञान भी बढता है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया ललित जी। सच कहा आपने।

      हटाएं
  10. ये कशमकश हर बार हमारे भी जेहन में आती है पर जब समय के तराजू में खुद को रखकर देखते है तो एहसास होता है कि समय तो बीत गया पर हमने जो सोचा ..वैसा कुछ नहीं हुआ..
    जिंदगी एक पहिये कि तरह है जो घूमता ही रहता है और फिर वही आकर ठहर जाता है जहाँ से शुरू हुआ था..खैर आप अपने इस दिन को उल्लास और हर्ष के साथ परिवार सहित मनायियेगा...
    जन्मदिन कि बहुत बहुत शुभकामनयें..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा आपने अर्चना जी। जिंदगी का पहिया घूमता रहता है फिर अंत में ढहर जाता हैं कहीं। शुक्रिया आपका।

      हटाएं
  11. aaki har ichchayen poori ho,janm din par aapke liye yahidua kar sakte hai,tumhe aur kya dun mai dil ki sivay tumko humari umar lag jaye.janm din mubaraq ho.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनिल भैया आपका आशीर्वाद बना रहे यही काफी है... शुक्रिया आपका।

      हटाएं
  12. janm din ki badhaii
    umr badhtee nahin ghatee hi haen
    jeevan lekin is sab sae parae haen

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. रचना जी शुक्रिया। आपने सही कहा, जीवन घटने-बढने से परे है... इसे बस चलते जाना है।

      हटाएं
  13. बहुत बढ़िया!
    जन्मदिन मुबारक हो!
    लोहड़ी पर्व की बधाई और शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शास्‍त्री जी शुक्रिया।
      आपको भी लोहड़ी पर्व की बधाई और शुभकामनाएं.......

      हटाएं
  14. बहुत ही सुन्दर रचना ...
    जन्मदिन की ढेर सारी बधाई और शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  15. अतुल जी,..उम्र जरूर १ वर्ष बढ़ गयी,लेकिन जीवन के १ वर्ष जरूर कम हो गये,..
    जन्म दिन की बहुत२ बधाई शुभकामनाए,सुंदर प्रस्तुति
    नई रचना-काव्यान्जलि--हमदर्द-

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धीरेन्‍द्र जी शुक्रिया आपका।

      हटाएं
  16. अतुल सर जन्मदिन कि ढेर सारी शुभकामनाये..
    शुभ मकर संक्रांति

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. रीना जी शुक्रिया।
      आपको भी मकर संक्रांति और लोहडी़ की बधाई....

      हटाएं
  17. उत्तर
    1. शुक्रिया शिवम् जी।
      आपको भी लोहडी और मकर संक्रांति की शुभकामनाएं......

      हटाएं
  18. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. अतुल जी, बहुत बढ़िया अभिव्यक्ति ....जन्मदिन की ढेर सारी बधाई और शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  21. उम्र कभी घट्ती नही है.....उम्र सिर्फ बढती है , और एक दिन जीवन पूर्ण होता है ..इसी पूर्णता को आलोकित करना हमारा काम है .जीवन को आलोकित करो यही आशीष है ... मकर संक्रांति के अवसर पर हार्दिक शुभकामनाये ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. नरेन्‍द्र जी आपने सही कहा। आपको भी मकर संक्रांति की शुभकामनाएं.....

      हटाएं
  22. यही तो जीवन है... यहाँ हम पाने के साथ साथ खोने का भी जश्न मानते है...:)
    सुन्दर कविता!

    जन्मदिन की अशेष शुभकामनाएं आपको!!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनुपमा जी सही है। जीवन में पाना और खोना दोनों होता है और दोनों अवसर पर जश्‍न मनाने को ही जिंदगी कहते हैं, शुक्रिया आपका।

      हटाएं
  23. इसी उधेड़बुन में मेरा सारा जीवन बीत गया...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. राहुल जी सही है। सारी उम्र पाने और खोने की उधेडबुन में बीत जाती है।

      हटाएं
  24. बहुत खूब
    जन्मदिन की हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत सुंदर रचना !

    अतुल जी जन्मदिन की ढेर सारी बधाई और शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कुमार संतोष जी शुक्रिया आपका।

      हटाएं
  26. बहुत सुन्दर...जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  27. देर से आने की माफ़ी चाहते हैं. अतुल जी जन्मदिन की ढेर सारी बधाई और शुभकामनाएं...
    कविता बहुत अच्छी है... सही कहा है आपने हम ऐसा कुछ कर जायें की जब जायें तो दुनिया रोये और हमारे चेहरे पर हंसी हो...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. संध्‍या जी आपके आने और शुभकामनाओं के लिए शुक्रिया।

      हटाएं
  28. आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली (२६) मैं शामिल की गई है /आप मंच पर आइये और अपने अनमोल सन्देश देकर हमारा उत्साह बढाइये /आप हिंदी की सेवा इसी मेहनत और लगन से करते रहें यही कामना है /आभार /लिंक है
    http://www.hbfint.blogspot.com/2012/01/26-dargah-shaikh-saleem-chishti.html

    उत्तर देंहटाएं
  29. नव निर्माण के भाव लिए सुन्दर प्रस्तुति .

    उत्तर देंहटाएं
  30. देर से आने की माफ़ी चाहते हुये,जन्म दिन की बहुत बहुत शुभकामनायें.सुन्दर प्रस्तुति.

    vikram7: महाशून्य से व्याह रचायें......

    उत्तर देंहटाएं
  31. आपका यह पोस्ट अच्छा लगा । । मेरे नए पोस्ट "हो जाते हैं क्यूं आद्र नयन" पर आपके प्रतिक्रियाओं की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  32. उस 'परमपिता' से प्रार्थना है की आपको 'माँ' का स्नेह इस 'धरती माँ' की बिभिन्न बिधाओं से प्राप्त होवे.
    अतुल जी 'देर' हेतु क्षमा. बहुत ही भावुक और गहराई में ले गए आप हमें भी - आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  33. देर से ही सही आपको जन्मदिन की ढेर सारी बधाई।
    आशा है आपका जन्मदिवस बहुत बढिया मना होगा ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. संजय जी शुक्रिया। जन्‍मदिन पर भी काम से आराम नहीं मिला, पर फिर भी कुछ वक्‍त चुराकर घर में ही छोटी सी पार्टी कर ली।

      हटाएं
  34. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
    सुन्दर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  35. उम्र नहीं बढ़ती , अनुभव बढ़ते हैं .... तभी तो शब्द बोलते हैं

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. रश्मि जी आपका आभार। आपने सच कहा, उम्र नहीं अनुभव बढता है।

      हटाएं
  36. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
    सुन्दर कविता|

    उत्तर देंहटाएं
  37. कुछ ऐसा करें, जो लोग याद रखें
    शुभकामनायें आपको ..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सतीश जी जरूर ऐसा कुछ करने की कोशिश रहेगी। आभार आपका।

      हटाएं
  38. दुआ ही दवा है .... बधाई /मेरे ब्लॉग पर आने की कृपा करें

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बबन पांडे जी आपका आभार। आपके ब्‍लाग में आकर अच्‍छा लगा।

      हटाएं
  39. बहुत सुंदर सकारात्मक रचना है.....जन्मदिन की शुभकामनायें स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
  40. बड़ी देर से आया हूँ
    प्यार का तोहफा लाया हूँ |

    जब हम अपने को पहचान लें, ईश्वरीय सत्ता से जीते-जी एकाकार होकर आत्मसाक्षात्कार कर लें तब है असली जन्मदिन| ईश्वर करें हमारे जीवन में वह सुखद दिन शीघ्र आये| तब चहुँ-ओर आनंद ही आनंद होगा| तबतक के लिए हार्दिक शुभकामनायें और ढेर सारा प्यार|

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हेमंत जी आपके तोहफे के लिए शुक्रिया। आपने सही कहा, आत्‍मसाक्षात्‍कार होने पर ही जन्‍म सफल है, आपकी शुभकामनाओं के लिए आभार।

      हटाएं
  41. मेरे गुरुदेव कहते हैं कि आपकी उम्र का सवाल ही गलत है | शरीर हरपल बदल रहा है और आत्मा की उम्र होती ही नहीं है| इसलिए चिंता न करें, चिंतन करें|

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हेमंत जी आपके गुरू का सदवाक्‍य सर-आंखों पर। आभार।

      हटाएं
  42. एक लाभ के
    दिवा स्वप्न में
    घूमो यारों
    तभी मजा है
    एक वर्ष की
    उमर कम हुई
    सोचोगे तो
    क्या पाओगे!
    ..नया वर्ष, मन वांछित सफलता वाला हो..यही दुआ है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. देवेन्‍द्र जी आपकी दुआओं और नसीहत के लिए आभार।

      हटाएं
  43. बधाई तो कभी भी दी जा सकती है ना?
    देर हो गई तो क्या
    बधाई व् शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  44. Welcome to www.funandlearns.com

    You are welcome to Fun and Learns Blog Aggregator. It is the fastest and latest way to Ping your blog, site or RSS Feed and gain traffic and exposure in real-time. It is a network of world's best blogs and bloggers. We request you please register here and submit your precious blog in this Blog Aggregator.

    Add your blog now!

    Thank you
    Fun and Learns Team
    www.funandlearns.com

    उत्तर देंहटाएं
  45. अतुल जी ....आज आपकी पोस्ट पड़ी ...मन भर आया ....फिर भी आपको दिल से शुभकामनएं देती हूँ ...कि आपकी जिंदगी में हर खुशी मिले ...जीवन ऐसे ही चलता रहेगा ...इसे किस रूप में जीना हैं ...वो हम खुद तय करते हैं ...

    मन में है अगर खुशी का सागर
    तो हर लहर ...उमंग लाएगी
    है अगर तूफ़ान ,तो
    हर लहर सुनामी बन जायेगी ...

    ये आपको सोचना है कि कौन सी लहर में जीना पसंद करंगे आप .....खुश रहे ..और सिर्फ खुशियाँ बांटे ...अपने और पराये का भेद भूल कर ....आभार

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अंजू जी आपने सही कहा। जैसा हमारा मन होगा, वैसा वातावरण हमें मिलेगा।
      आभार आपका।

      हटाएं
  46. जन्‍मदिन पर दुखी होने का दस्‍तूर नहीं है। हमने जन्‍म लिया है, इसका अर्थ है कि हमें कुछ अच्‍छा करने का आदेश मिला है। माँ को स्‍मरण करना आज के समय की आवश्‍यकता है, नहीं तो आज कौन याद करता है।

    उत्तर देंहटाएं
  47. अतुल सर जी...
    जन्मदिन की ढ़ेर सारी शुभकामनाएँ..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं