18 अप्रैल 2012

... तो न आना किसी गांव सीएम साहब!


नक्‍सल प्रभावित सीतागांव में ग्रामीणों के बीच 19 अप्रैल 2011 को  चौपाल लगाए बैठे मुख्‍यमंत्री डा रमन सिंह की फाईल तस्‍वीर।

प्रति,
डा रमन सिंह जी,मुख्यमंत्री,
छत्तीसगढ़ शासन।

मैं मदनवाड़ा हूं और मेरा पड़ौसी सीतागांव है। हम दोनों आपसे कुछ हना चाहते हैं। बड़े भारी मन से हना चाहते हैं। हम आपको बताना चाहते हैं कि आपने दो साल पहले मुझ पर जो कृपाबरसाई थी और पिछले साल इसी अप्रैल महीने में मेरे पड़ौसी सीतागांव पर जो तोहफों की बरसात की थी, वो सिर्फ कागजों त सीमित रह गए! हुआ कुछ नहीं। हम काफी निराश हैं और इसी निराशा में हम अपनी पीड़ा व्यक्त र रहे हैं। बुरा लगे तो माफ रना।
बुधवार यानि 18 अप्रैल से आप फिर कृपाबरसाने गांव-गांव घूमेंगे। आपका उडख़टोला आपको लेर फिर ई गांवों में उतरेगा और आप वहां सपने दिखाएंगे। विकाकी बातें रेंगे। गांव और गरीब की बातें रेंगे। हमारे कुछ साथी फिर छलावे में आएंगे। मन में ई तरह की ल्पनाएं रेंगे। और फिर जब आप धूल उड़ाते हुए उड़जाएंगे,  तो वो धूल के गुबार में खोर रह जाएंगे। 
सपनों का टूट जाना कैसा होता है? ये हमने देखा है। हम जानते हैं जब कोई उम्मीद बंधाए और वो पूरी न हों तो कैसी तलीफ होती है। हम इस दर्द को महसूस र सते हैं कि अभावों के बीच उम्मीदों का आना कैसा होता है और फिर उनका टूट जाना कैसा अहसास राता है। इस खुशी से भी झूम गए हैं कि जब कोई हमारी ओर ध्यान नहीं दे और ऐसे में प्रदेश के मुखिया हमारी सुध ले। हम इस बात से भी आल्हादित हो गए हैं कि मुखिया के साथ पूरा अमला हमारी तलीफों से दो चार होने लगे। साथ ही इस बात से भी दो-चार हो गए हैं कि कैसे फिर अचान सब कुछ खाली हो गया। एबदनामगांव में आपका आना कितना सुखद अहसास रा गया था हमें पर अब वो लम्हे हमें किसी सुखद सपने से लगते हैं, जो शायद भी पूरे नहीं हो सते!
हां, हम बदनाम हो गए हैं। देश के सबसे बड़े नक्सली वारदात के नाम पर। हमारे ही सीने में खून बहा था, वीर जवानों का। हमने ही अपनी आंखों से वो  मंजर देखा था, जिससे पूरा प्रदेश-देश हिल गया था। हम गवाह हैं, उस घटना के जिसमें नक्सलियों ने अपनी क्रूरता से पुलिस के 30 जवानों की जान ले ली थी। 12 जुलाई 2009  की वो तारीख थी। इसके बाद से हम इस दर बदनाम हुए कि कोई हम त पहुंचने की भी नहीं सोचता था। सब हमसे ऐसा बर्ताव रते थे मानो हम कोई छूत हों। फिर भी ऐसा नहीं कि हम अकेले हों। हमारे पास ए बड़ी फोर्स थी। फिर भी। हमारी स्थिति ऐसी थी कि फोर्स को भी हमारे साथ रहना सजा जैसा लगता था। यानि कि हर दृष्टि से हम बदनाम ही थे।
ऐसे में आप हमारे यहां आए। 2009 की घटना के रीब आठ नौ महीने बाद यानि अप्रैल 2010 में आप मेरे पास आए। आपके आने से मैं कितना खुश था, बता नहीं सता। ऐसा लगा था कि जमाने भर की खुशियां मिल गई हों,  पर  ये खुशियां ज्यादा समय त नहीं टिकीं। आप गए और इसी के साथ ही आपके लिए वादे चले गए। आप पर पूरे प्रदेश का दायित्व है। आपको शायद याद नहीं। मैं आपको याद दिला देता हूं। आपने मेरे गांव के पेड़ के नीचे चौपाल लगार मेरी बरसों पुरानी मांग बसेली पर पुल निर्माण राने की घोषणा की थी। स्‍कूल बनाने की घोषणा की थी। बाजार शेड की बात की थी। थाने के निर्माण को स्वीकृति दी थी। आप आए तो आपका सरकारी अमला भी आया। कुछ दिनों त हम वीआईपी  हो गए। खूब पूछ-परख हुई, फिर हालात वैसे ही हो गए, जैसा पहले था। फोर्स के लिए थाना तो बन गया है। बाजार में शेड का निर्माण भी जैसे-तैसे हो गया, पर हमारे बच्चों के लिए स्‍कूल नहीं बन पाया है। आधा-अधूरा पड़ा है। बसेली पर पुल तो सपना ही रह गया है।
सीतागांव भी आपके आने से बहुत खुश था। उसे उम्मीद थी कि आपने उसे जो सौगातें(?) दी थीं, उससे उसके दिन बहुर जाएंगे, पर वो भी अब बहुत दु:खी है। आपने सीतागांव में ग्रामीणों की मांग पर हाथीसा नाला पर 25 लाख रुपए की लागत से स्टापडेम बनाये जाने की मंजूरी दी थी। इस स्टॉपडेम के बनने से ग्रामीणों को निस्तार व सिंचाई की सुविधा मिलने की उम्मीद थी। सीतागांव के पटेलपारा में पेयजल की समस्या को देखते हुए दो  हैंडपंप स्थापित किए जाने की घोषणा की थी।  ग्रामीणों ने जब आपको यह बताया कि उन्हें धान बेचने अथवा सोसायटी से बीज, खाद लेने के लिए लगभग 20  किमी दूर  औंधी अथवा मानपुर सोसायटी जाना पड़ता है तो आपने सीतागांव में धान खरीदी केन्द्र एवं आगामी शिक्षा सत्र से वहां हाईस्‍कूल खोलने का ऐलान किया था। सीतागांव के ग्रामीणों की मांग पर वहां के बस स्टैण्ड में यात्री प्रतीक्षालय, ग्राम पंचायत के लिए नये भवन का निर्माण तथा चंवरगांव पहुंच मार्ग में 10 लाख की लागत से पुलिया का निर्माण राए जाने की भी स्वीकृति आपने दी थी। आपने सीतागांव में नल-जल योजना के विस्तार की मंजूरी देते हुए मुझे यानि मदनवाड़ा में बीएसएनएल का टॉवर स्थापित राये जाने का भरोसा दिलाया था।
आपको बताते हुए अत्यंत दुख हो रहा है कि इनमें से आधे से ज्यादा में कोकाम नहीं हो पाया है। सीतागांव में नल जल योजना पर कोकाम नहीं हो सका है। स्टापडैम का काम अधूरा पड़ा है। हाईस्‍कूल भवन नहीं बन पाया है।  पंचायत भवन की भी यही स्थिति है।  यात्री प्रतीक्षालय नहीं है। हां,  दो  हैंडपम्प लग गए हैं और आपने जितने किसानों के खेतों के समतलीरण को स्वीकृति दी थी,  उनमें से रीब आधे का काम हो गया है। आप ही सोचिए, जहां आप खुद पहुंचे हों, वहां इस तरह की स्थिति होनी चाहिए क्या? हमें तो लगा था कि आपके आने के बाद हमारी सारी तलीफें, सारी समस्याएं हल हो जाएंगी, पर हमें निराशा हाथ लगी।
आदरणीय मुख्यमंत्री जी, पता नहीं आपसे यह हना ठी है या नहीं, पर अपनी स्थिति देखहना पड़ रहा है कि यदि आपके आने से उम्मीदें बंधने के बाद इस तरह टूटती हैं तो उम्मीदों का न बंधना ही ठी है! आपका उडऩखटोलाआए और विकाके बयार चलने के बजाय धूल का गुबार उड़ाकर सपनों को  तोड़र चला जाए तो उसका न उतरना ही ठी है! दुखी मन से आपसे निवेदन है कि यदि आपका आना महज सपने दिखाना है, उसे पूरा रना नहीं, तो आपका न आना ही ठी है!
आपका
मदनवाड़ा और सीतागांव
http://bhaskarbhumi.com/ 

21 टिप्‍पणियां:

  1. इस सार्थक लेखन के लिए बधाई................
    वाकई बद से बदतर होता जा रहा है बस्तर..........कभी सारी उम्र वहीँ गुज़ार देने का सोचा करते थे हम......

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस सार्थक लेखन के लिए बधाई................
    वाकई बद से बदतर होता जा रहा है बस्तर..........कभी सारी उम्र वहीँ गुज़ार देने का सोचा करते थे हम......

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. @ expression, आभार आपका।
      सच कहा, बस्‍तर बद से बदतर होता जा रहा है। वैसे पूरा छत्‍तीसगढ बेहाल हो गया है। यह हकीकत बस्‍तर से काफी दूर राजनांदगांव जिले के एक गांव की है। उस जिले के एक गांव की, जहां से मुख्‍यमंत्री खुद विधायक हैं।

      हटाएं
    2. ओह! अच्छा.................
      नक्सलवाद पढते ही हमारे ज़हन में बस्तर ही कौंधता है.....जबकि मुझे लगा कि इन गाँवों का नाम ख़याल क्यूँ नहीं आ रहा मुझे....
      सच में अब तो पूरा छत्तीसगढ़ ही उनकी चंगुल में है.

      सादर.
      अनु

      हटाएं
    3. ओह! अच्छा.................
      नक्सलवाद पढते ही हमारे ज़हन में बस्तर ही कौंधता है.....जबकि मुझे लगा कि इन गाँवों का नाम ख़याल क्यूँ नहीं आ रहा मुझे....
      सच में अब तो पूरा छत्तीसगढ़ ही उनकी चंगुल में है.

      सादर.
      अनु

      हटाएं
  3. :) poora patra gajab ka hai...sach hai jhoothe sabzbaag dikhane se accha hai neta samne hi na aae

    उत्तर देंहटाएं
  4. बिल्‍कुल सही कहा है आपने ... सार्थकता लिए हुए सटीक लेखन ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सही कहा आपने "यदि आपका आना महज सपने दिखाना है, उसे पूरा करना नहीं, तो आपका न आना ही ठीक है!" झूठे वादे सपनो जैसे ही होते हैं आँख खुली और टूट गए, फिर मन यही कहता है कि सपना देखा ही ना होता तो अच्छा था... काश ये सपना न हो... शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  6. वादे अनेक ,पर काम अधूरे या किये ही नहीं..
    संपूर्ण देश का भी यही हाल है ..
    कलमदान

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बढ़िया,इन नेताओं द्वारा सिर्फ कोरे आश्वासन देने की, गाँव की दर्द भरी प्रस्तुति,....

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...

    उत्तर देंहटाएं
  8. हाँ बरसों से महज सपने दिखाना भर ही तो रह गया है राजनेताओं का कम.... खरी खरी ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. ये राज नेता ऐसे ही होते है वादे तो अनेक करते है पर काम एक भी सही नहीं करते....इनके सभी कार्य अधूरे ही रहते
    पूरे देश में और हर राज्य में यही हाल है
    सार्थक लेखन अतुल जी कम से कम जनता तो जाग्रत होगी

    संजय भास्कर

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. करारा व्यंग आज की प्रशासनिक व्यवस्था पर,

    उत्तर देंहटाएं
  12. कुछ कहने के लिए छोडा ही नही तूने ..शानदार

    उत्तर देंहटाएं
  13. Ye to cm ki baat h. Agr PM bhi aa jaye en gaov m to aaj kuch nh hone wala. Lalipop de jayege. Aur ham fir inhe hi vote de dege.
    आज भी सभी समस्या जस की तस

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. एक बात समझ मे आज तक नहीं आयीं ।
      जब बिना बताये साहब किसी भी गांव मे उडनखटोला से उतरते हैं तो जिले के बडे अफसर कैसे पहुँच जाते हैं ?

      हटाएं