26 फ़रवरी 2012

लाल क्रांति के लिए दो अपने लाल!


‘’हर घर से एक युवक दो या फिर मौत के लिए तैयार हो जाओ......’’ ये फरमान जारी किया है नक्‍सलियों ने और इस फरमान का असर है कि लोग  अपनी  धरती, अपना जन्‍मस्‍थान और अपनी कर्मस्‍थली को छोडकर शरणार्थी बन गए हैं। वैसे तो छत्‍तीसगढ का तकरीबन आधा हिस्‍सा नक्‍सल हिंसा की चपेट में है लेकिन कुछ इलाकों में तो ऐसा लगता है कि नक्‍सलियों की ही सरकार है.....! ऐसा लगता है उन इलाकों में लोकतांत्रित तरीके से काम कर रही सरकार की पहुंच से ज्‍यादा नक्‍सलियों की पहुंच है! ! उन इलाकों में नक्‍सली जो चाहते हैं, कर जाते हैं और इसके बाद सरकार लकीर पीटती नजर आती  है! ! ! लोगों में सरकार पर विश्‍वास से ज्‍यादा नकसलियों का भय है! ! ! ! स्‍िथति देखकर लगता है कि हम जो सुरक्षित हैं, वो इसलिए नहीं कि सुरक्षातंत्र तगडा है, इसलिए कि नक्‍सली कुछ करना नहीं चाहते.... वरना.......!!!!!!! छत्‍तीसगढ में नक्‍सल हिंसा ने उन इलाकों में रहने वाले लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। तकरीबन हर दिन कहीं न कहीं से नक्‍सल आतंक से धरती लाल हो रही है।

ताजा मामला है राजनांदगांव और कवर्धा जिले से जुडा। इस इलाके के नक्‍सल प्रभावित गांव बकरकट्टा का करीब 25 परिवारों वाला गांव कांशीबहरा इस समय वीरान हो गया है। इन 25 परिवारों में करीब 115 सदस्‍य हैं। सबके सब अपना गांव छोड चुके हैं और कवर्धा जिले के वनांचल के गांव  तेंदूटोला में खुले मैदान में शरणार्थी की हैसियत से रह रहे हैं। वजह यह कि नकसलियों ने इस गांव के हर परिवार से एक एक सदस्‍य की मांग अपने संगठन के विस्‍तार के‍ लिए की, वरना अंजाम भुगतने की धमकी दी। नकसलियों के इस फरमान के चलते ग्रामीण अपना बरसो पुराना आशियाना छोड खुले मैदान के नीचे जीवन काटने मजबूर है। तकरीबन दस दिनों से ये ग्रामीण इस हालात में हैं पर प्रशासन की आंख नहीं खुली। प्रशासन जागा आज, जब मीडिया ने इन ग्रामीणों के दर्द को सामने रखा और अब आनन फानन में प्रशासन के नुमाइंदे इन ग्रामीणों के पास पहुंचे और उन्‍हें गांव वापस लौटने कहा, पर ये ग्रामीण किसी कीमत पर वापस गांव नहीं जाना  चा‍हते। 

इस पूरे मामले का सबसे दुर्भाग्‍यजनक पहलू यह है कि राजनांदगांव प्रदेश के मुख्‍यमंत्री का निर्वाचन जिला है और कवर्धा गृह जिला। इसके बाद भी इन ग्रामीणों की सुध लेने के लिए प्रशासन को मीडिया में सुर्खियों बनने तक का  इंतजार करना पडा। एक दुर्भाग्‍यजनक तथ्‍य यह भी कि शुक्रवार को इन पीडित ग्रामीणों का एक दल राजनांदगांव जिला मुख्‍यालय पहुंचा था,  सांसद से मिलने और साथ में मुख्‍यमंत्री से मिलने पर शुक्रवार को सांसद और मुख्‍यमंत्री राजनांदगांव में ही रहते हुए भी इनसे नहीं मिले। दरअसल में ये दोनों एक जलसे में व्‍यस्‍त थे। जलसा था राजनांदगांव में करीब 70 लाख रूपए (विपक्षी पार्टी कांग्रेस के आरोपों की मानें तो करीब तीन करोड रूपए) की लागत से बने एक और सीएम हाऊस में मुख्‍यमंत्री के गृह-प्रवेश का। एक और सौ से ज्‍यादा ग्रामीण अपने आशियाने को छोड भटक रहे थे और दूसरी ओर प्रदेश के मुखिया नए आवास में प्रवेश का जश्‍न मना रहे थे.......!!!!!!! हालांकि सांसद ने यह सफाई जरूर दी कि उन्‍होंने उनके कार्यालय में पहुंचे ग्रामीणों से मिलने के लिए अफसरों को वहां भेजा था, पर वे खुद क्‍यों नहीं मिले ग्रामीणों से ये वो नहीं बता पाए। 

कवर्धा में काम कर रहे पत्रकार साथी सतीश तंबोली से मिली जानकारी के मुता‍बिक खुले मैदान और पेड के नीचे अपना जीवन निर्वाह कर रहे आदिवासी ग्रामीण दरअसल बरसों से नक्‍सलियों के आतंक को सहते आ रहे हैं। अब नक्सलियों ने इन ग्रामीणों के प्रत्येक घर से एक सदस्य  को अपने संगठन में शामिल होने का दबाव बना रहे हैं। इनकी बात नही मानने पर इन्हे प्रताडित कर रहे  हैं और गोली मारकर हत्या करने की बात कह रहे हैं। नक्सलियों के आतंक और धमकी के चलते इन्‍हें अपना आशियाना छोडना पडा। नक्सलियों के डर से ग्रामीणों ने गांव खाली कर दिया है और अपने साथ जरूरी सामान और कुछ आनाज साथ लेकर आये हैं जिनसे उनका गुजारा हो रहा हैसाथ लाया अनाज कुछ दिन ही और चल पाएगा। उसके बाद क्‍या होगा, इस बात की चिंता इन्हे अभी से सता रही है।

नक्सलियों ने स्कूली बच्चों को भी नही बक्शा है। उन्हे अपने साथ चलने को कहा जाता हैमना करने पर इनसे मारपीट की जाती है।  नक्सलियों का खौफ उनके चेहरो पर देखा और जुबान से सुना जा सकता है । बच्चे नक्सली संगठन मे शामिल नहीं होना चाहते, पढाई कर नेक रास्ते में चलना चाहते हैं। नक्सलियों के लगातार परेशान करने के बाद भी यहां के लोगों को वहां के पुलिस से कोई सहायता नही मिल पा रही है। ग्रामीणों की माने तो इन इलाकों में तैनात सुरक्षाकर्मी भी इनका कोई सुध नही लेते। यहां बताना लाजमी होगा कि इस वनांचल क्षेत्र में जंगली जानवर बहुतायत हैं। आये दिन जंगली जानवरों द्वारा यहां के पालतू मवेशियों को अपना आहार बना लिया जाता है।  ऐसे में खुले मैदान में छोटे छोटे बच्चों के साथ इनका जीवन कितना सुरक्षित है इसका अंदाजा लगया जा सकता है। 

दस दिनों बाद जब मीडिया के माध्‍यम से यह खबर सुर्खियों में आया, इसके बाद राजनांदगांव और कवर्धा के प्रशासन की नींद खुली और आनन फानन में कुछ प्रशासनिक नुमाइंदे इन ग्रामीणों के पास पहुंचे पर अब ये ग्रामीण किसी कीमत पर अपने गांव नहीं लौटना चाहते। उनका कहना है कि वे किसी भी तरह किसी और जगह अपनी जिंदगी काट लेंगे पर उस जगह नहीं लौटेंगे जहां उनके सिर में नक्‍सलियों के फरमान की तलवार  लटकी है। क्षेत्र के तहसीलदार स्‍वीकार करते हैं कि ग्रामीण अब कांशीबहरा नहीं जाना चाहते। उन्‍होंने बताया  कि प्रभावित ग्रामीणों में से करीब 40 लोगों को वहां से लाकर साल्‍हेवारा के पंचायत भवन में रखा गया है और उन्‍हें साल्‍हेवारा से लगे कुछ गांवों में बसाने की कोशिश की जाएगी और बाकी लोगों को भी कहीं और बसाने के लिए लाया जाएगा लेकिन ग्रामीण अपने गांव में नहीं लौटना चाहते। तहसीलदार का कहना है कि फिलहाल तो ग्रामीणों की व्‍यवस्‍था कहीं और की जाएगी पर उम्‍मीद है कि समय बीतने के साथ वे अपने गांव लौट जाएंगे।
बहरहाल, नक्‍सलियों के भय के चलते पूरे गांव के गांव के खाली हो जाने का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी कई इलाकों के ग्रामीण अपना घर छोडकर दूसरी जगह जा चुके हैं। यह अलग बात है कि काफी समय बीतने के बाद वो अपने आशियाने में लौटे भी, पर सरकार, सुरक्षा तंत्र और  लोकतंत्र पर सवालिया निशान छोड जाते हैं इस तरह के वाक्‍ये.....!!!!!!!!!  

44 टिप्‍पणियां:

  1. जो भी दुख याद ना था याद आया
    आज ना जाने क्यूँ ये याद आया
    तुमने छेड़ा जो ये फसाना अपना
    मुझको मेरा गम क्यूँ याद आया

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. @संजय महापात्रा जी बहुत बढिया।

      हटाएं
  2. sadak chaudikaran va saundaryikaran ke naam par prashasan logon ko beghar kar raha hai aur jangal gaon naksli dahashat se khali ho rahe hai. badi durbhagyajanak sthiti hai.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. @राजेश भाई इन तीन तस्‍वीरों की कल्‍पना कीजिए, सडक चौडीकरण के नाम पर बेघर लोग, नक्‍सल आतंक के चलते खाली गांव और प्रदेश के मुखिया का नये बंगले में गृहप्रवेश........!!!!!

      हटाएं
  3. नक्सलवाद बहुत ही खतरनाक समस्या हो बन गया है। इसका जल्द से जल्द उपाय हो जाना चाहिए। मुझे इस बात का अधिक क्रोध आता है जब कुछ लोग कहते हैं वो तो सताए हुए लोग हैं, सरकार ने शोषण किया इसलिए बंदूक उठा ली। अगर ऐसा है तो ये वहां बच्चों के स्कूल को बम से क्यों उड़ा देते हैं? क्यों किसी के परिवार को ही मौत के हवाले कर देते हैं? क्या क्षेत्र में विकास नहीं होने देते? क्यों सड़कों को खोद डालते हैं?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. @लोकेन्‍द्र जी नक्‍सलवाद अब विचारधारा नहीं रहा। धीरे धीरे यह लूटेरों का संगठन बनता जा रहा है।

      हटाएं
  4. isliye to inka aadhaar khisak raha he....jine loye larne ki baat karte he usi ko marte he...?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. @ अरूण जी अब नक्‍सल संगठन ग्रामीणों के लिए लडने वाला संगठन नहीं रहा। उसके सर्वाधिक शिकार निरीह ग्रामीण ही बन रहे हैं।

      हटाएं
  5. बहुत बड़ी त्रासद स्थिति है यह ...मगर राज्य अपना मौलिक कर्तव्य भूल गए हैं.हम ऐसी ही संवेदनहीनता के शिकार हैं !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. @ संतोष जी त्रासद और दुर्भाग्‍यपूर्ण।

      हटाएं
  6. बड़ी समस्या बनता जा रहा है 'नक्सलवाद'. 'जन समस्या ' के नाम पर.

    उत्तर देंहटाएं
  7. Hi, I am the owner of a Photography blog photographymc.blogspot.com

    I'd like to exchange links with you. I added your blog to my Favorites!

    Pay me a visit and let me know with a comment on the blog what you think about it.

    P.s.

    There's something you may be interested in, on my blog started a free online photography course, that includes over 200 lessons at this link: Free online Digital Photography Course

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 27-02-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बड़ी समस्या बनता जा रहा है 'नक्सलवाद'...

    उत्तर देंहटाएं
  10. हाय सब,

    आप एक व्यवसाय है कि एक कम समय में आप अपनी वित्तीय स्थिति को बेहतर करने के लिए बदल सकते हैं की कल्पना कर सकते हैं?
    आप जो व्यवसाय में एक प्रतिशत है, जो है नहीं देने के लिए और हमेशा की तरह, किसी भी निवेश के बिना होगा?
    व्यापार कि सरल है और कि आप एक जीवन भर प्रदान कर सकते हैं?
    जो व्यापार में आप कुछ खोना नहीं है, लेकिन आप केवल एक ही प्राप्त कर सकते हैं?
    आप गूगल के सदस्य अच्छी तरह से भुगतान करना चाहेंगे?
    बात यह है ... WAZZUB


    WAZZUB - नई तकनीक का पेटेंट कराया पंजीकरण करने के लिए दुनिया में सबसे का दौरा किया वेबसाइटों बन पृष्ठ.
    गूगल भी रिकॉर्ड FACEBOOK तोड़ दिया और गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज किया गया. WAZZUB 2012 में, अरबों लोगों की नहीं लाखों के जीवन में परिवर्तन ...
    इस एमएलएम (बहु स्तरीय विपणन) नहीं है - WAZZUB बहुत खास है!
    कोई अन्य कंपनी के उन लोगों को जो मुक्त हो जाएगा के लिए अपने लाभ का 50% की पेशकश की है और इस नई परियोजना के साथ शामिल किया जाएगा. यह सब पर बाजार में ही कंपनी है.

    करोड़ों परियोजना WAZZUB. इसकी शुरुआत 2007 से अधिक 2000000 $ के एक निवेश के साथ वापस की तारीख.

    यह एक नया इंटरनेट घटना है, और आप एक दुनिया में पहली बार इसके बारे में पता कर रहे हैं. अब यह बहुत महत्वपूर्ण है समझ तुम क्या आपके हाथों में है.

    समय महत्वपूर्ण है.

    आप एक जीवन भर के माध्यम से वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त कर सकते हैं - मुक्त - और एक बड़े पैमाने पर निष्क्रिय आय हर महीने.

    आप गहरी 5 पीढ़ियों में उनकी "असीमित" चौड़ाई में प्रति व्यक्ति $ 1 अर्जित कर सकते हैं.

    अगर यह ज्यादा नहीं लगता है देखो, क्या होता है:

    यदि आप 5 दोस्तों को आमंत्रित करते हैं, और उन पांच दोस्तों को एक ही बात करेंगे:

    पहले 5 पीढ़ी एक्स 1 $ $ $ 5 =
    दूसरी पीढ़ी के 25 एक्स 1 $ = $ 25
    x 125 $ 1 = $ 125 की तीसरी पीढ़ी
    चौथी पीढ़ी के 625 एक्स 1 $ = $ 625
    5 3125 पीढ़ी x 1 $ 3 $ 125 =
    ____________________________________
    अपने निष्क्रिय आय 3905 $ कुल होगा. यह निष्क्रिय आय आप प्रत्येक महीने हो और तुम क्या तुम हर दिन कर रहे हैं की तुलना में और कुछ नहीं करते.

    क्या होगा अगर हर कोई परियोजना केवल 10 लोगों को आमंत्रित किया? इस राशि के लिए 111 $ 110 प्रति माह करने के लिए गुलाब होगा - एक निष्क्रिय जीवन!

    और अधिक लोगों को आमंत्रित करने के लिए, अधिक पैसे कमाने. 20 या 30 की कोशिश करो और देखो क्या होता है ... आप विश्वास नहीं करेंगे.

    यह एक तथ्य यह है कि ज्यादातर लोगों में शामिल है क्योंकि यह एक अद्वितीय कमाने का अवसर है,
    यह शक्ति है और यह मुफ़्त है और हर कोई मुक्त सामान प्यार करता है :)

    पंजीकरण लिंक: signup.wazzub.info / LrRef = 7ad20
    जानकारी: www.youtube.com/watch?v=5yv4BvQv1Kk

    उत्तर देंहटाएं
  11. सचमुच गंभीर समस्या है ..आपने हम सब को भी अवगत कराया..
    kalamdaan.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  12. देश ऐसे ही न जाने कितने अंगारों पर बैठा है। हम सतर्क है वास्‍तव में यह बात नहीं है बस वे अभी खामोश है इसी कारण हम सुरक्षित हैं। आप सही कह रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  13. नक्सलबाद एक गम्भीर समस्या है,अगर प्रशासन इस पर शक्ती से कदम नही उठाती,तो वो दिन दूर नही
    जब पूरा छत्तीसगढ़ इसके चपेट में आजायेगा,.....
    अति उत्तम,सराहनीय प्रस्तुति,

    NEW POST काव्यान्जलि ...: चिंगारी...

    उत्तर देंहटाएं
  14. बिहार में भी आये दिन नक्सली वारदात होती रहती है ..कुछ क्षेत्र तो इतना असुरक्षित है कि लोग पलायन कर रहे है और सरकार केवल बात ही कर रही है...

    उत्तर देंहटाएं
  15. शर्म की बात है ... एक तरफ जहां चाँद पर जाने की बात करती है सरकार वहीं दूसरी तरफ नक्सल इलाकों में भी जाने को डरती है सरकार ...
    क्या गज़ब गडबड झोल है ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. महाभारत की एक कथा याद आ गयी जहां एक राक्षस गाँव वालों से हुए समझौते के तहत प्रति दिन गाँव के एक व्यक्ति को अपना भोजन बनाता था... लगता है भीम के मारे वह राक्षस मरा नहीं बल्कि उसकी संख्या बढ़ गयी और खुराक भी.... अब उसे हर घर से एक व्यक्ति अपने भोजन को चाहिए....
    जनता तो खैर मजबूर है मगर सरकार...??

    उत्तर देंहटाएं
  17. ये कटु सच्चाई की तस्वीर है, त्रासदी है,

    उत्तर देंहटाएं
  18. yah aek katu sachhai hae.jo naxlites haen neta aaj bhi unke sudhar ki baten hi kar rhe haen jabki ve ISI se hath mila chuke haen.sval yah uthta hae ki ve vastav men visthapit log haen ya naxal gatividhiyon ka sach kuchh or hi he,bina?sarthak post hae aapki Atulji.aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  19. स्थिति यक़ीनन दुखद है..... नागरिकों के मन में पालने वाला आक्रोश कितने दिन दबा रहेगा ...... हद है संवेदनहीनता की....

    उत्तर देंहटाएं
  20. नक्सलवाद आज की समय बड़ी समस्या बनता जा रहा है सरकार भी डरती है नक्सलवाद

    उत्तर देंहटाएं
  21. नक्सलवाद एक खतरनाक समस्या है..सरकार को बहुत गंभीरता से इसका हल ढूंढना चाहिए
    रोज ही अखबारों में नक्सलवादियों द्वारा निरपराध लोगो के मारे जाने की ऐसी ख़बरें होती हैं कि रोंगटे खड़े हो जाते हैं...
    आपने विस्तार से इस समस्या की अंदरूनी जानकारी दी है..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  22. सार्थक तथा सामयिक पोस्ट, आभार.

    आपका मेरे ब्लॉग meri kavitayen की नवीनतम प्रविष्टि पर स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  23. एक और सौ से ज्‍यादा ग्रामीण अपने आशियाने को छोड भटक रहे थे और दूसरी ओर प्रदेश के मुखिया नए आवास में प्रवेश का जश्‍न मना रहे थे.......!!!!! sharmnak...
    ....uf..bhagwan kisi ko gareeb na banayen....
    bahut samvedansheel aur sarthak chintan manan karti prastuti hetu aabhar!

    उत्तर देंहटाएं
  24. सचमुच यह सब दुखद है...
    सच को रेखांकित करते इस लेख हेतु हार्दिक बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत ही गंभीर और दुखद घटना है..
    नक्सलवाद हमारे देश के लिए तो बहुत बड़ा खतरा है :-)
    आपकी पोस्ट हमेशा ही सामाजिक रहती है..
    देश की भलाई के बारे में होती है...
    बहुत अच्छा है..

    उत्तर देंहटाएं
  26. नक्सलवाद को खतम करने के सरकार को शक्ती से कदम उठाना चाहिए,..

    NEW POST...फिर से आई होली...

    उत्तर देंहटाएं
  27. मनन योग्य पोस्ट है ...
    रंगोत्सव पर शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  28. आपकी पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (३३) में शामिल की गई है /आप आइये और अपने विचारों से अवगत करिए /आपका स्नेह और आशीर्वाद इस मंच को हमेशा मिलता रहे यही कामना है /आभार /
    इसका लिंक है
    http://hbfint.blogspot.in/2012/03/33-happy-holi.html

    उत्तर देंहटाएं
  29. सोये हुओं को भी जगाने वाला आलेख .........

    उत्तर देंहटाएं
  30. sachmuch bahut sharmnak hai ye hamari sarkar ke liye...bahut vicharneey lekh

    उत्तर देंहटाएं
  31. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    ♥ होली ऐसी खेलिए, प्रेम पाए विस्तार ! ♥
    ♥ मरुथल मन में बह उठे… मृदु शीतल जल-धार !! ♥



    आपको सपरिवार
    होली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    *****************************************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    उत्तर देंहटाएं
  32. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.

    आपको सपरिवार रंगों के पर्व होलिकोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ......!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत कुछ जानने को मिला पर पढकर बहुत अफ़सोस हुआ की जिस नेता को जनता इतने विश्वास से चुनकर इतना सम्मान दिलाती है वही कुर्सी मिलजाने पर उनकी सुध तक नहीं ले लेते बहुत गंभीर विषय पर चर्चा पर कुछ भी कर सकने में असमर्थ |

    उत्तर देंहटाएं
  34. जो फर्ज था हमारा, हमने निभा दिया।
    भूखों को रोटियों का नगमा सुना दिया।

    कलम का जो फर्ज होता है उसे
    आपने बखूबी निभाया है
    साधुवाद।

    आनन्द विश्वास

    उत्तर देंहटाएं
  35. Thank you for some other informative web site. Where else could I get that kind of information written in such a perfect manner?



    For More Information Visit Here : Indian Current Affairs

    उत्तर देंहटाएं